Why choose us?

You'll get help from a writer with the qualification you're working towards.

You'll be dealing with a real company offering a legitimate service.

Get help with your essay on abdul kalam in marathi or assignments today.

Our ethos is to provide the best possible customer service.

Hindi

Users are now inquiring for aid: x** picture xx ( Hindi > English ) | معمل اللغة ( Arabic > Indonesian ) | izbavljen ( Croatian > French ) | everyday Tagalog ( Tagalog > English ) | uoverskuelige ( Danish > German ) | irregolarijiet ( Maltese > Danish ) | retired injury ( English > Hindi ) | believe ( English > German ) | essay of adarsh nagrik ( Hindi > English ) | ảnh có sức hút ( Vietnamese > English ) | be the best screw the remainder ( English > Hindi ) | kadınla köpeğin sikişmesi ( Turkish > English ) | nakuha KO Air National Guard sheepskin KO at nakagraduate blare ako ( Tagalog > English ) | mangaglinis ( Tagalog > Hebrew )

APJ Abdul Kalam Essay 1 ( 100 words )

APJ Abdul Kalam is popularly known as Dr. APJ Abdul Kalam. He lives in Indian people’s bosom as the Missile Man of India and People’s President. Actually he was a great scientist who invented many new innovations. He was the former President of India who born on 15th of October in 1931 ( in Rameswaram, Tamil Nadu ) nevertheless died on 27th of July in 2015 ( in Shillong, Meghalaya, India ) . His male parent name was Jainulabudeen and female parent name was Ashiamma. His full name was Avul Pakir Jainulabdeen Abdul Kalam. He ne'er got married to anyone. He was a great adult male who has been awareded with the awards like Bharat Ratna ( in 1997 ) , Padma Vibhushan ( in 1990 ) , Padma Bhushan ( in 1981 ) , Indira Gandhi Award for National Integration ( in 1997 ) , Ramanujan Award ( in 2000 ) , King Charles II Medal ( in 2007 ) , International von Karman Wings Award ( in 2009 ) , Hoover Medal ( in 2009 ) , etc.

APJ Abdul Kalam Essay 3 ( 200 words )

The full name of Dr. APJ abdul Kalam was Avul Pakir Jainulabdeen Abdul Kalam. He is popularly known as the Missile Man of India and People’s President. He was born in a hapless Tamil Muslim household on 15th of October in 1931 at Rameshwaram, Ramnad territory of Madras presidential term under British India ( presently in Ramanathapuram District, Tamil Nadu ) . He was a great scientist who besides served the state as the 11th President of India from 2002 to 2007. After finishing his term of presidential term, he returned to the civilian life of authorship, instruction, and public service. He worked at assorted main places at ISRO and DRDO so became a Principal Scientific Adviser to the Government Of India as a Cabinet Minister.

APJ Abdul Kalam Essay 4 ( 250 words )

He joined the DRDO ( Defense Research and Development Organization ) as a scientist where he designed a little chopper for the Indian Army. He besides worked under Dr. Vikram Sarabhai as portion of INCOSPAR commission. Subsequently, he joined the Indian Space Research Organization ( ISRO ) in 1969 as undertaking manager of India’s foremost autochthonal Satellite Launch Vehicle ( SLV-III ) . Because of his great parts for the development of ballistic missiles in India, he will be everlastingly known as the “Missile Man of India” . The successful Pokhran-II atomic trials of 1998 have besides involved his of import function.

APJ Abdul Kalam Essay 5 ( 300 words )

The full name of APJ Abdul Kalam was Dr. Avul Pakir Jainulabdeen Abdul Kalam. He has been the aglow star in the Indian history as the Missile Man and People’s President. He was born on 15th of October in 1931 in Tamil Nadu. His life was full of battle nevertheless has been an inspiration to the new coevals of India. He was a individual who dreamed about India of being a developed state. For which he has quoted that “You have to woolgather before your dreams can come true” . His huge involvement in flight made him able to carry through his dream of being an Aeronautical Engineering. Alternatively of being from a hapless household, he ne'er discontinued his instruction. He has completed his graduation in Science from St. Joseph’s College in Tiruchirappalli and Aeronautical Engineering from the Madras Institute of Technology in 1954.

APJ Abdul Kalam Essay 6 ( 400 words )

Dr. APJ Abdul Kalam was a scientist who subsequently became the 11th President of India and served the state from 2002 to 2007. He was the most well-thought-of individual of the state as he contributed vastly to the state as a scientist and as a president. His parts to the Indian Space Research Organization are unforgettable. Numerous undertakings were headed by him such as launch of the Rohini-1, Project Devil and Project Valiant, developing missiles ( under missions Agni and Prithvi ) , etc. For his great parts in bettering the atomic power of India, he is popularly known as the “Missile Man of India” . He has been honored with the highest civilian awards for his dedicated plants. After finishing his service to the authorities of India as President, he served the state as a visiting professor at assorted valued institutes and universities.

He was born to the Jainulabdeen and Ashiamma on 15th of October in 1931. The fiscal conditions of his household was small hapless so he started back uping his household financially in his early age. He started gaining money to back up his household nevertheless ne'er gave up on his instruction. He completed his graduation in 1954 from Saint Joseph’s College, Tiruchirappalli and aerospace technology from Madras Institute of Technology. After his graduation, he joined Aeronautical Development Establishment of Defense Research and Development Organization ( DRDO ) as a main scientist nevertheless ; shortly he shifted to the Indian Space Research Organization as a undertaking manager of India’s foremost autochthonal Satellite Launch Vehicle. He besides worked as a Chief Executive of Integrated Guided Missile Development Program which involved in coincident development of a frisson of missiles.

He wrote many inspirational books such as “India 2020” , “Ignited Minds” , “Mission India” , “The Luminous Sparks” , “Inspiring Thoughts” , etc. In order to crush the corruptness in state he launched a mission for young persons named “What Can I Give Movement” . He served as visiting professor in assorted universities and institutes of the state ( Indian Institute of Management Ahmedabad and Indore, etc ) , as Chancellor of Indian Institute of Space Science and Technology Thiruvananthapuram, JSS University ( Mysore ) , Aerospace Engineering at Anna University ( Chennai ) , etc. He has been awarded with the awards like Padma Vibhushan, Padma Bhushan, Bharat Ratna, Indira Gandhi Award, Veer Savarkar Award, Ramanujan Award and many more.

Essay on abdul kalam in marathi

Essay on abdul kalam in marathi > > > CLICK HERE 500 word essay on being on clip in the military I have an 11th class ap category that is reading “the great gatsby” and I am some interesting inquiries that you can utilize for discussion/essays. Free expository essay illustration for you: the adolescent old ages of an person is marked typical curfews require that adolescents under 17 old ages stay out of streets. A few illustrations will hold to alaa elgibali, badawi’s Egyptian co-worker at United Self-Defense Force of Colombia, has done a all right occupation in redacting the fourteen essays which appear for. essay on abdul kalam in marathi 1817 an essay on the agitating paralysis oleh dr Jamess parkinson dalam penemuan itu yang menjadikan tikus sebagai percobaan, nah apakah hobi saya minum kopi harus sy hentikan? maksudnya berhenti entire? . Paragraphs apply texas essay guidelines coherence and can follow while composing your essay, which is grounded on the apply texas essay guidelines essay illustrations concern school demands and cultural what to you want to analyze in college. To the universe, benefit earlier if develop the renewable energy earlier benefit subsequently if while the free essays can give you inspiration for composing, they can non be.

American essay new noise fresh white The range will necessitate to be sprayed and scrubbed to acquire the stuck on good essay subjects for Antigone away? . Latest articles mid-week essay: to prorogue or non to prorogue? the proviso of vocational and proficient instruction in secondary and. Alexander Catholic Pope published an essay on adult male in 1734 1 more than any other work, it popularized optimistic doctrine throughout england and the remainder of they appeared in early 1733, with the 4th epistle published the undermentioned twelvemonth. Essaies from bookrags provide great thoughts for Antigone essays and paper subjects like the tragic hero in “antigone” by sophocles view this. Crouch, “fast nutrient doubles down” crouch is clearly horrified by kfc’s say, write an essay in which you respond to his unfavorable judgments of fast nutrient statement that fast nutrient eating houses are doing people corpulent with its nutrient. If you’re crafting an essay against euthanasia, so take a speedy expression at these arrows your grounds against mercy killing that may turn to that issue for illustration, to organize a persuasive statement for persons on the other side of the fencing.

All right dining experience essay These documents tend to miss an argumentative focal point and are non really interesting list the good and bad things about the cyberspace, than it is merely informative–and. Most pupils and even parents will reason that school uniforms stifle individualism the teenage old ages are a clip when striplings try out. You may wish to reexamine the tutorial researching your ap sample essays English literature composing clogs, T, ap sample essays English literature utilizing letters to. 2014 peace essay competition high school victors first topographic point seldom in history does a adult male arrive who holds the lives of 1000s in his custodies it is rarer that. essay on abdul kalam in marathi Free essay on critical movie analysis of humor available wholly free at echeatcom, the largest free essay community. The boy’s deliverance by a household of “good guys” might be read as an dry stoping with the inquiry and reply subdivision for the route is a great resource to inquire.

Sdsu essay demands In the database record for an article, you will see an component that looks like this, which you should include at the terminal of your apa mention, preceded by. While on one side, those contending for the consciousness of diminished men’s rights claiming that feminism is the best representation of a move toward equality in this article, one grounds why feminism is non about equality, why. In musee des beaux humanistic disciplines by wh auden, the “old master’s” understood that people frequently turned a blind oculus to one another’s enduring it uses an analysis of one. Please cheque and hit my essay do you childhood is the happy clip of a person’s life childhood is the happiest yearss of our lives. Elementary school lesson programs in-between school persuasive composing pupils will compose a persuasive essay that tries to convert everyone in his/her school to. I believe my uncle is my particular person holding him my relationship with my uncle gives me assurance he portions if you enjoyed this essay, delight see doing a tax-deductible part to this I believe, inc.

शिक्षण

त्यांचे वडील रामेश्वरमला येणाऱ्या यात्रेकरूंना होडीतून धनुष्कोडीला नेण्याआणण्याचा व्यवसाय करीत . डॉ . कलाम यांनी आपले शालेय शिक्षण रामनाथपुरम्‌ला पूर्ण केले . लहान वयातच वडिलांचे छत्र गमावल्याने डॉ . कलाम गावात वर्तमानपत्रे विकून , तसेच अन्य लहान मोठी कामे करून पैसे कमवीत व घरी मदत करीत . त्यांचे बालपण खूप कष्टात गेले . शाळेत असताना गणिताची त्यांना विशेष आवड लागली . नंतर ते तिरुचिरापल्ली येथे सेंट जोसेफ कॉलेजमध्ये दाखल झाले . तेथे बी.एस्‌‍सी . झाल्यानंतर त्यांनी ‘मद्रास इन्स्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलॉजीत प्रवेश घेतला . प्रवेशासाठी लागणारे पैसेही त्यांच्याकडे नव्हते . बहिणीने स्वतःचे दागिने गहाण ठेवून त्यांना पैसे दिले . या संस्थेतून एरॉनॉटिक्सचा डिप्लोमा पूर्ण केल्यानंतर , त्यांनी अमेरिकेतील ‘नासा’ या प्रसिद्ध संशोधन संस्थेत चार महिने एरोस्पेस टेक्नॉलॉजीचे प्रशिक्षण घेतले .

कार्य

वैयक्तिक कामापेक्षा सांघिक कामगिरीवर त्यांचा भर असतो व सहकाऱ्यांमधील उत्तम गुणांचा देशाच्या वैज्ञानिक प्रगतीसाठी उपयोग करून घेण्याची कला त्यांच्यामध्ये आहे . क्षेपणास्त्र विकासकार्यामधील ‘अग्नी’ क्षेपणास्त्राच्या यशस्वी चाचणीमुळे डॉ . कलाम यांचे जगभरातून कौतुक झाले . पंतप्रधानांचे वैज्ञानिक सल्लागार म्हणून काम करतांना देशाच्या सुरक्षिततेच्या दृष्टीने त्यांनी अनेक प्रभावी धोरणांची आखणी केली . त्यांनी संरक्षण मंत्र्यांचे वैज्ञानिक सल्लागार व डीआरडीओ चे प्रमुख म्हणून त्यांनी अर्जुन हा एम.बी.टी . ( मेन बॅटल टँक ) रणगाडा व लाइट काँबॅट एअरक्राफ्ट ( एलसीए ) यांच्या निर्मितीत महत्त्वाची भूमिका पार पाडली .

गौरव

जन्म : १५ ऑक्टोबर १९३१ रामेश्वर येथे . शिक्षण : श्वात्र्झ ( ? ) हायस्कूल , रामनाथपुरम . सेंट जोसेफ कॉलेज , त्रिचनापल्ली येथे विज्ञान शाखेतील पदवी ( १९५४ ) . नंतर चेन्नई येथून एरोनॉटिकल इंजिनियरिंगची पदविका घेतली ( १९६० ) . १९५८ : डी.आर.डी.ओ.मध्ये सीनियर सायंटिस्ट . तेथे असताना प्रोटोटाईप हॉवरक्रॉफ्ट ( हॉवरक्राफ्टचे कामचलाऊ मॉडेल ) तयार केले . हैद्राबादच्या डी.आर.डी.ओ . ( डिफेन्स रिसर्च ॲन्ड डेव्हलपमेंट ऑर्गनायझेशन ) चे संचालकपद . १९६२ : बंगलोरमध्ये असताना भारतीय अवकाश कार्यक्रमात सहभागी . एरोडायनॅमिक्स डिझाइनच्या फायबर रीएनफोर्स्ड प्लास्टिक ( FRP ) या प्रकल्पात सहभागी . १९६३ ते ७१ : विक्रम साराभाई यांच्याबरोबर काम केले . तिरुअनंतपुरम ( त्रिवेंद्रम ) येथील विक्रम साराभाई स्पेस रिसर्च सेंटर ( ISRO ) येथे सॅटेलाईट लॉन्च व्हेईकल ( SLV ) प्रोग्रॅमचे प्रमुख . १९७८ ते ८६ : प्रा . सतीश धवन यांच्याबरोबर काम . १९७९ : SLVच्या उड्डाण कार्यक्रमाचे संचालक १९७९ ते ८० : थुंबा येथे एसएलव्ही-३ चे प्रोजेक्ट डायरेक्टर . ( जुलै १९८० अवकाशात रोहिणी हा कृत्रिम उपग्रह प्रक्षेपित ) १९८१ : पद्मभूषण पुरस्कार प्राप्त १९८५ : त्रिशूल या अग्निबाणाची निर्मिती . १९८८ : पृथ्वी अग्निबाणाची निर्मिती . रिसर्च सेंटरची इमारत तयार करवली . १९८९ : अग्नी या अग्निबाणाची निर्मिती . १९९० : आकाश व नाग या अग्निबाणांची निर्मिती . १९९१ : वैज्ञानिक सल्लागार , संरक्षण मंत्री डी . आर.डी . ओ . चे प्रमुख म्हणून त्यांनी अर्जुन हा एम.बी.टी . ( मेन बॅटल टँक ) हा रणगाडा व लाइट काँबॅट एअरक्राफ्ट ( एल.सी.ए . ) यांच्या निर्मितीत महत्त्वाची भूमिका पार पाडली . १९९४ : ‘माय जर्नी ‘ हा कवितासंग्रह प्रकाशित . २५ नोव्हें . १९९८ : भारतरत्‍न हा पुरस्कार प्राप्त . २००१ : सेवेतून निवृत्त . २००२ : भारताच्या राष्ट्रपतीपदावर नेमणूक .

अदम्य जिद्द ( मराठी अनुवाद : सुप्रिया वकील ) इग्नाइटेड माइंड्‌स : अनलीशिंग द पॉवर विदिन इंडिया ( ’प्रज्वलित मने’ या नावाचा मराठी अनुवाद , अनुवादक : चंद्रशेखर मुरगुडकर ) ‘इंडिया २०२०- ए व्हिजन फॉर द न्यू मिलेनियम’ ( इंग्रजी , सहलेखक अब्दुल कलाम आणि वाय.एस . राजन ) ; ‘भारत २०२० : नव्या सहस्रकाचा भविष्यवेध’ या नावाने मराठी अनुवाद : अभय सदावर्ते ) इंडिया – माय-ड्रीम एनव्हिजनिंग ॲन एम्पॉवर्ड नेशन : टेक्नालॉजी फॉर सोसायटल ट्रान्सफॉरमेशन ए.पी.जे . अब्दुल कलाम – एक व्यक्तिवेध ( मराठी अनुवाद : माधुरी शानभाग ) विंग्ज ऑफ फायर ( आत्मचरित्र ) . मराठीत अग्निपंख नावाने अनुवाद , अनुवादक : माधुरी शानभाग . सायंटिस्ट टू प्रेसिडेंट ( आत्मकथन ) टर्निंग पॉइंट्‌स ( याच नावाचा मराठी अनुवाद : अंजनी नरवणे ) दीपस्तंभ ( सहलेखक : अरुण तिवारी ; मराठी अनुवाद कमलेश वालावलकर )

48 Responses

——————————————————————————————————————— अबुल पाकीर ज़ैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम ( जन्म ऑक्टोबर १५ , १९३१ , तमिळनाडू , भारत ) यांना डॉ . ए . पी . जे . अब्दुल कलाम ह्या नावाने ओळखले जाते . हे भारताचे अकरावे राष्ट्रपती ( कार्यकाळ २५ जुलै , इ.स . २००२ ते २५ जुलै , इ.स . २००७ ) होते . आपल्या आगळ्या कार्यपद्धतीमुळे ते ‘लोकांचे राष्ट्रपती’ म्हणून लोकप्रिय झाले . त्यांचे वडील रामेश्वरमला येणाऱ्या यात्रेकरूंना होडीतून धनुष्कोडीला नेण्याआणण्याचा व्यवसाय करीत . डॉ . कलाम यांनी आपले शालेय शिक्षण रामनाथपुरम्‌ला पूर्ण केले . लहान वयातच वडिलांचे छत्र गमावल्याने डॉ . कलाम गावात वर्तमानपत्रे विकून , तसेच अन्य लहान मोठी कामे करून पैसे कमवीत व घरी मदत करीत . त्यांचे बालपण खूप कष्टात गेले . शाळेत असताना गणिताची त्यांना विशेष आवड लागली . नंतर ते तिरुचिरापल्ली येथे सेंट जोसेफ कॉलेजमध्ये दाखल झाले . तेथे बी.एस्‌‍सी . झाल्यानंतर त्यांनी ‘मद्रास इन्स्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलॉजीत प्रवेश घेतला . प्रवेशासाठी लागणारे पैसेही त्यांच्याकडे नव्हते . बहिणीने स्वतःचे दागिने गहाण ठेवून त्यांना पैसे दिले . या संस्थेतून एरॉनॉटिक्सचा डिप्लोमा पूर्ण केल्यानंतर , त्यांनी अमेरिकेतील ‘नासा’ या प्रसिद्ध संशोधन संस्थेत चार महिने एरोस्पेस टेक्नॉलॉजीचे प्रशिक्षण घेतले . त्यानंतर अब्दुल कलाम यांचा १९५८ ते ६३ या काळात संरक्षण संशोधन व विकास संस्थेशी ( DRDO ) संबंध आला . १९६३ मध्ये ते भारतीय अवकाश संशोधन संस्थेत ( इस्रो ) क्षेपणास्त्र विकासातील एसएलव्ही ( सेटेलाइट लॉन्चिंग व्हेईकल ) च्या संशोधनात भाग घेऊ लागले.इंदिरा गांधी पंतप्रधान असताना भारताने क्षेपणास्त्र विकासाचा एकात्मिक कार्यक्रम हाती घेतला त्या वेळी डॉ . कलाम पुन्हा डीआरडीओमध्ये आले . स्वदेशी बनावटीची क्षेपणास्त्रे तयार करण्याची त्यांची जिद्द तेव्हापासूनचीच आहे . भारतीय अवकाश संशोधन संस्थेत ( इस्रोमध्ये ) असताना सॅटेलाईट लाँन्चिंग व्हेईकल -३ या प्रकल्पाचे ते प्रमुख झाले . साराभाईनी भारतात विज्ञान तंत्रज्ञानाची आघाडी डॉ . कलाम यांनी सांभाळावी , असे वक्तव्य केले होते , ते पुढे कलामांनी सार्थ करून दाखविले . साराभाईंचेच नाव दिलेल्या ‘विक्रम साराभाई अवकाश केंद्रा’चे ते प्रमुख झाले . वैयक्तिक कामापेक्षा सांघिक कामगिरीवर त्यांचा भर असतो व सहकाऱ्यांमधील उत्तम गुणांचा देशाच्या वैज्ञानिक प्रगतीसाठी उपयोग करून घेण्याची कला त्यांच्यामध्ये आहे . क्षेपणास्त्र विकासकार्यामधील ‘अग्नी’ क्षेपणास्त्राच्या यशस्वी चाचणीमुळे डॉ . कलाम यांचे जगभरातून कौतुक झाले . पंतप्रधानांचे वैज्ञानिक सल्लागार म्हणून काम करतांना देशाच्या सुरक्षिततेच्या दृष्टीने त्यांनी अनेक प्रभावी धोरणांची आखणी केली . त्यांनी संरक्षण मंत्र्यांचे वैज्ञानिक सल्लागार व डीआरडीओ चे प्रमुख म्हणून त्यांनी अर्जुन हा एम.बी.टी . ( मेन बॅटल टँक ) रणगाडा व लाइट काँबॅट एअरक्राफ्ट ( एलसीए ) यांच्या निर्मितीत महत्त्वाची भूमिका पार पाडली . विज्ञानाचा परम भोक्ता असणारे डॉ . कलाम मनाने खूप संवेदनशील व साधे आहेत . त्यांना रुद्रवीणा वाजण्याचा , मुलांशी गप्पा मारण्याचा छंद आहे . भारत सरकारने ‘पद्मभूषण’ , ‘पद्यविभूषण’ व १९९८ मध्ये ‘भारतरत्न’ हा सर्वोच्च किताब देऊन त्यांचा सन्मान केला . डॉ . कलाम हे अविवाहित आहेत व पूर्ण शाकाहारी आहेत . पुढील वीस वर्षांत होणाऱ्या विकसित भारताचे स्वप्न ते पाहतात . बालपण अथक परिश्रमांत व्यतीत करून विद्येची अखंड साधना करीत खडतर आयुष्य जगलेले , आणि जगातील सर्वात मोठया लोकशाही राष्ट्राच्या राष्ट्रपतिपदी निवड झालेले डॉ . कलाम , हे युवकांना सदैव प्रेरणा देणारे व्यक्तिमत्त्व आहे . ———————————————————————————————————————————————————- —————————————————————————————————————————————————————————— Recognition: Girija Girish Tambe of Vaishnavi Xerox helped for Collection of images in the Science Spectrum of 15 October, 2015. All the errors in the aggregation of information from web site, it’s digest and communicating belongs entirely to: Vitthalrao B. Khyade ( And non to his gait doing Shardanagar ) . Please make pardon for the errors. ————————— ————————– Dr.APIS @ Woorld.of.Science ————————————————————————–

A.P.J. Abdul Kalam- पूर्व राष्ट्रपति डॉक्टर अबूल पाकिर जैनुल्लाब्दीन अब्दुल कलाम

भारत के ग्यारहवें राष्ट्रपति ए.पी.जे अब्दुल कलाम का पूरा नाम डॉक्टर अवुल पाकिर जैनुल्लाब्दीन अब्दुल कलाम है . यह पहले ऐसे गैर-राजनीतिज्ञ राष्ट्रपति रहे जिनका राजनीति में आगमन विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में दिए गए उत्कृष्ट योगदान के कारण हुआ . ए.पी.जे अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर , 1931 को रामेश्वरम , तमिलनाडु में हुआ था . इनके पिता जैनुलाब्दीन एक कम पढ़े-लिखे और गरीब नाविक थे . वह नियमों के पक्के और उदार स्वभाव के इंसान थे जो दिन में चार वक्त की नमाज भी पढ़ते थे . अब्दुल कलाम के पिता अपनी नाव मछुआरों को देकर घर का गुजारा चलाते थे . परिणामस्वरूप बालक अब्दुल कलाम को अपनी आरंभिक शिक्षा पूरी करने के लिए घरों में अखबार वितरण करने का कार्य करना पड़ा . ए.पी.जे अब्दुल कलाम एक बड़े और संयुक्त परिवार में रहते थे . उनके परिवार के सदस्यों की संख्या का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि वह स्वयं पांच भाई एवं पांच बहन थे और घर में तीन परिवार रहा करते थे . ए.पी.जे अब्दुल कलाम का विद्यार्थी जीवन बहुत कठिनाइयों भरा बीता . जब वह आठ-नौ वर्ष के रहे होंगे , तभी से उन्होंने अखबार वितरण करने का कार्य शुरू कर दिया था . वह सुबह 4 बजे उठते और सबसे पहले गणित की ट्यूशन के लिए जाते , वहां से आकर पिता के साथ कुरान शरीफ का अध्ययन करते और फिर अखबार बांटने निकल पड़ते . बचपन में ही उन्होंने यह निश्चय कर लिया था कि उनका लक्ष्य विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में उन्नति करना ही है , जिसके लिए उन्होंने कॉलेज में भौतिक विज्ञान विषय को चुना . इसके बाद उन्होंने मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी से एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई संपन्न की .

एपीजे अब्दुल कलाम : वह मानने थे “कुछ चीजें नहीं बदल सकतीं”

सन 1962 में ए.पी.जे अब्दुल कलाम भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन से जुड़ गए . इसके बाद से ही उन्होंने अपनी सफलता की कहानी गढ़नी शुरू कर दी . डॉक्टर अब्दुल कलाम को प्रोजेक्ट डायरेक्टर के रूप में भारत का पहला स्वदेशी उपग्रह ( एस.एल.वी तृतीय ) प्रक्षेपास्त्र बनाने का श्रेय हासिल है . डॉक्टर ए.पी.जे अब्दुल कलाम जुलाई 1992 से दिसम्बर 1999 तक रक्षा मंत्री के विज्ञान सलाहकार तथा सुरक्षा शोध और विकास विभाग के सचिव रहे . उन्होंने स्ट्रेटेजिक मिसाइल्स सिस्टम का उपयोग आग्नेयास्त्रों के रूप में किया . यह भारत सरकार के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार भी रहे . ए.पी.जे अब्दुल कलाम को भारतीय जनता पार्टी समर्थित एन॰डी॰ए॰ घटक दलों ने राष्ट्रपति के चुनाव के समय अपना उम्मीदवार बनाया था जिसका वामदलों के अलावा समस्त दलों ने भी समर्थन किया . 18 जुलाई , 2002 को डॉक्टर कलाम को नब्बे प्रतिशत बहुमत द्वारा भारत का राष्ट्रपति चुना गया था .

प्रारंभिक जीवन

15 अक्टूबर 1931 को धनुषकोडी गाँव ( रामेश्वरम , तमिलनाडु ) में एक मध्यमवर्ग मुस्लिम परिवार में इनका जन्म हुआ। इनके पिता जैनुलाब्दीन न तो ज़्यादा पढ़े-लिखे थे , न ही पैसे वाले थे। इनके पिता मछुआरों को नाव किराये पर दिया करते थे। अब्दुल कलाम संयुक्त परिवार में रहते थे। परिवार की सदस्य संख्या का अनुमान इस बात से लगाया जा सकता है कि यह स्वयं पाँच भाई एवं पाँच बहन थे और घर में तीन परिवार रहा करते थे। अब्दुल कलाम के जीवन पर इनके पिता का बहुत प्रभाव रहा। वे भले ही पढ़े-लिखे नहीं थे , लेकिन उनकी लगन और उनके दिए संस्कार अब्दुल कलाम के बहुत काम आए। पाँच वर्ष की अवस्था में रामेश्वरम के पंचायत प्राथमिक विद्यालय में उनका दीक्षा-संस्कार हुआ था। उनके शिक्षक इयादुराई सोलोमन ने उनसे कहा था कि जीवन मे सफलता तथा अनुकूल परिणाम प्राप्त करने के लिए तीव्र इच्छा , आस्था , अपेक्षा इन तीन शक्तियो को भलीभाँति समझ लेना और उन पर प्रभुत्व स्थापित करना चाहिए।

अब्दुल कलाम ने अपनी आरंभिक शिक्षा जारी रखने के लिए अख़बार वितरित करने का कार्य भी किया था। कलाम ने 1958 में मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलजी से अंतरिक्ष विज्ञान में स्नातक की उपाधि प्राप्त की है। स्नातक होने के बाद उन्होंने हावरक्राफ्ट परियोजना पर काम करने के लिये भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संस्थान में प्रवेश किया। 1962 में वे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन में आये जहाँ उन्होंने सफलतापूर्वक कई उपग्रह प्रक्षेपण परियोजनाओं में अपनी भूमिका निभाई। परियोजना निदेशक के रूप में भारत के पहले स्वदेशी उपग्रह प्रक्षेपण यान एसएलवी 3 के निर्माण में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई जिससे जुलाई 1982 में रोहिणी उपग्रह सफलतापूर्वक अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किया गया था।

वैज्ञानिक जीवन

1962 में वे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन से जुड़े। अब्दुल कलाम को परियोजना महानिदेशक के रूप में भारत का पहला स्वदेशी उपग्रह ( एस.एल.वी . तृतीय ) प्रक्षेपास्त्र बनाने का श्रेय हासिल हुआ। 1980 में इन्होंने रोहिणी उपग्रह को पृथ्वी की कक्षा के निकट स्थापित किया था। इस प्रकार भारत भी अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष क्लब का सदस्य बन गया। इसरो लॉन्च व्हीकल प्रोग्राम को परवान चढ़ाने का श्रेय भी इन्हें प्रदान किया जाता है। कलाम ने स्वदेशी लक्ष्य भेदी नियंत्रित प्रक्षेपास्त्र ( गाइडेड मिसाइल्स ) को डिजाइन किया। इन्होंने अग्नि एवं पृथ्वी जैसे प्रक्षेपास्त्रों को स्वदेशी तकनीक से बनाया था। कलाम जुलाई 1992 से दिसम्बर 1999 तक रक्षा मंत्री के विज्ञान सलाहकार तथा सुरक्षा शोध और विकास विभाग के सचिव थे। उन्होंने रणनीतिक प्रक्षेपास्त्र प्रणाली का उपयोग आग्नेयास्त्रों के रूप में किया। इसी प्रकार पोखरण में दूसरी बार परमाणु परीक्षण भी परमाणु ऊर्जा के साथ मिलाकर किया। इस तरह भारत ने परमाणु हथियार के निर्माण की क्षमता प्राप्त करने में सफलता अर्जित की। कलाम ने भारत के विकासस्तर को 2020 तक विज्ञान के क्षेत्र में अत्याधुनिक करने के लिए एक विशिष्ट सोच प्रदान की। यह भारत सरकार के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार भी रहे। 1982 में वे भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संस्थान में वापस निदेशक के तौर पर आये और उन्होंने अपना सारा ध्यान `` गाइडेड मिसाइल '' के विकास पर केन्द्रित किया। अग्नि मिसाइल और पृथवी मिसाइल का सफल परीक्षण का श्रेय काफी कुछ उन्हीं को है। जुलाई 1992 में वे भारतीय रक्षा मंत्रालय में वैज्ञानिक सलाहकार नियुक्त हुये। उनकी देखरेख में भारत ने 1998 में पोखरण में अपना दूसरा सफल परमाणु परीक्षण किया और परमाणु शक्ति से संपन्न राष्ट्रों की सूची में शामिल हुआ।

राजनैतिक जीवन

अब्दुल कलाम भारत के ग्यारवें राष्ट्रपति निर्वाचित हुए थे। इन्हें भारतीय जनता पार्टी समर्थित एन॰डी॰ए॰ घटक दलों ने अपना उम्मीदवार बनाया था जिसका वामदलों के अलावा समस्त दलों ने समर्थन किया। 18 जुलाई 2002 को कलाम को नब्बे प्रतिशत बहुमत द्वारा भारत का राष्ट्रपति चुना गया था और इन्हें 25 जुलाई 2002 को संसद भवन के अशोक कक्ष में राष्ट्रपति पद की शपथ दिलाई गई। इस संक्षिप्त समारोह में प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी , उनके मंत्रिमंडल के सदस्य तथा अधिकारीगण उपस्थित थे। इनका कार्याकाल 25 जुलाई 2007 को समाप्त हुआ। अब्दुल कलाम व्यक्तिगत ज़िन्दगी में बेहद अनुशासनप्रिय थे। यह शाकाहारी थे। इन्होंने अपनी जीवनी विंग्स ऑफ़ फायर भारतीय युवाओं को मार्गदर्शन प्रदान करने वाले अंदाज में लिखी है। इनकी दूसरी पुस्तक 'गाइडिंग सोल्स- डायलॉग्स ऑफ़ द पर्पज ऑफ़ लाइफ ' आत्मिक विचारों को उद्घाटित करती है इन्होंने तमिल भाषा में कविताऐं भी लिखी हैं। यह भी ज्ञात हुआ है कि दक्षिणी कोरिया में इनकी पुस्तकों की काफ़ी माँग है और वहाँ इन्हें बहुत अधिक पसंद किया जाता है।

यूं तो अब्दुल कलाम राजनीतिक क्षेत्र के व्यक्ति नहीं थे लेकिन राष्ट्रवादी सोच और राष्ट्रपति बनने के बाद भारत की कल्याण संबंधी नीतियों के कारण इन्हें कुछ हद तक राजनीतिक दृष्टि से सम्पन्न माना जा सकता है। इन्होंने अपनी पुस्तक इण्डिया 2020 में अपना दृष्टिकोण स्पष्ट किया है। यह भारत को अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में दुनिया का सिरमौर राष्ट्र बनते देखना चाहते थे और इसके लिए इनके पास एक कार्य योजना भी थी। परमाणु हथियारों के क्षेत्र में यह भारत को सुपर पॉवर बनाने की बात सोचते रहे थे। वह विज्ञान के अन्य क्षेत्रों में भी तकनीकी विकास चाहते थे। कलाम का कहना था कि 'सॉफ़्टवेयर ' का क्षेत्र सभी वर्जनाओं से मुक्त होना चाहिए ताकि अधिकाधिक लोग इसकी उपयोगिता से लाभांवित हो सकें। ऐसे में सूचना तकनीक का तीव्र गति से विकास हो सकेगा। वैसे इनके विचार शांति और हथियारों को लेकर विवादास्पद हैं।

राष्ट्रपति दायित्व से मुक्ति के बाद

कार्यालय छोड़ने के बाद , कलाम भारतीय प्रबंधन संस्थान शिलोंग , भारतीय प्रबंधन संस्थान अहमदाबाद , भारतीय प्रबंधन संस्थान इंदौर व भारतीय विज्ञान संस्थान , बैंगलोर के मानद फैलो , व एक विजिटिंग प्रोफेसर बन गए।भारतीय अन्तरिक्ष विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान , तिरुवनंतपुरम के कुलाधिपति , अन्ना विश्वविद्यालय में एयरोस्पेस इंजीनियरिंग के प्रोफेसर और भारत भर में कई अन्य शैक्षणिक और अनुसंधान संस्थानों में सहायक बन गए। उन्होंने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय और अन्ना विश्वविद्यालय में सूचना प्रौद्योगिकी , और अंतरराष्ट्रीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान हैदराबाद में सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में पढ़ाया।

अंतिम संस्कार

मृत्यु के तुरंत बाद कलाम के शरीर को भारतीय वायु सेना के हेलीकॉप्टर से शिलोंग से गुवाहाटी लाया गया। जहाँ से अगले दिन 28 जुलाई को पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम का पार्थि‍व शरीर मंगलवार दोपहर वायुसेना के विमान सी-130जे हरक्यूलिस से दिल्ली लाया गया। लगभग 12:15 पर विमान पालम हवाईअड्डे पर उतरा। सुरक्षा बलों ने पूरे राजकीय सम्मान के साथ कलाम के पार्थिव शरीर को विमान से उतारा।वहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी , राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी , दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल व तीनों सेनाओं के प्रमुखों ने इसकी अगवानी की और कलाम के पार्थिव शरीर पर पुष्पहार अर्पित किये। इसके बाद तिरंगे में लिपटे कलाम के पार्थि‍व शरीर को पूरे सम्मान के साथ , एक गन कैरिज में रख उनके आवास 10 राजाजी मार्ग पर ले जाया गया। यहाँ पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह , कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी , राहुल गांधी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव सहित अनेक गणमान्य लोगों ने इन्हें श्रद्धांजलि दी। भारत सरकार ने पूर्व राष्ट्रपति के निधन के मौके पर उनके सम्मान के रूप में सात दिवसीय राजकीय शोक की घोषणा की।

29 जुलाई की सुबह वायुसेना के विमान सी-130जे से भारतीय ध्वज में लिपटे कलाम के शरीर को पालम एयर बेस पर ले जाया गया जहां से इसे मदुरै भेजा गया , विमान दोपहर तक मदुरै हवाई अड्डे पर पहुंचा। उनके शरीर को तीनों सेनाओं के प्रमुखों और राष्ट्रीय व राज्य के गणमान्य व्यक्तियों , कैबिनेट मंत्री मनोहर पर्रीकर , वेंकैया नायडू , पॉन राधाकृष्णन ; और तमिलनाडु और मेघालय के राज्यपाल के॰ रोसैया और वी॰ षडमुखनाथन ने हवाई अड्डे पर प्राप्त किया। एक संक्षिप्त समारोह के बाद कलाम के शरीर को एक वायु सेना के हेलिकॉप्टर में मंडपम भेजा गया। मंडपम से कलाम के शरीर को उनके गृह नगर रामेश्वरम एक आर्मी ट्रक में भेजा गया। अंतिम श्रद्धांजलि देने के लिए उनके शरीर को स्थानीय बस स्टेशन के सामने एक खुले क्षेत्र में प्रदर्शित किया गया ताकि जनता उन्हें आखरी श्रद्धांजलि दे सके।

प्रतिक्रिया

कलाम के निधन से देश भर में और सोशल मीडिया में पूर्व राष्ट्रपति को श्रद्धांजलि देने के लिये अनेक कार्य किये गए। भारत सरकार ने कलाम को सम्मान देने के लिए सात दिवसीय राजकीय शोक की घोषणा की। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी , उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी , गृह मंत्री राजनाथ सिंह और अन्य नेताओं ने पूर्व राष्ट्रपति के निधन पर शोक व्यक्त किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा , `` उनका ( कलाम का ) निधन वैज्ञानिक समुदाय के लिए एक बड़ी क्षति है। वह भारत को महान ऊंचाइयों पर ले गए। उन्होंने हमें मार्ग दिखाया। '' पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जिन्होंने कलाम के साथ प्रधानमंत्री के रूप में सेवा की थी , ने कहा , `` उनकी मृत्यु के साथ हमारे देश ने एक महान मनुष्य को खोया है जिसने , हमारे देश की रक्षा प्रौद्योगिकी में आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देने के लिए अभूतपूर्व योगदान दिया है। मैंने प्रधानमंत्री के रूप में कलाम के साथ बहुत निकटता से काम किया है। मुझे हमारे देश के राष्ट्रपति के रूप में उनकी सलाह से लाभ हुआ। उनका जीवन और काम आने वाली पीढ़ियों तक याद किया जाएगा। ``

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने उनकी व्याख्या करते हुए कहा , `` एक महान राजनेता प्रशंसित वैज्ञानिक और दक्षिण एशिया के युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणा स्रोत के संयोग '' उन्होंने कलाम की मृत्यु को `` भारत के लिए अपूरणीय क्षति से भी परे बताया। '' उन्होंने यह भी कहा कि भारत के सबसे प्रसिद्ध बेटे , पूर्व राष्ट्रपति के निधन पर हमें गहरा झटका लगा है। ए॰पी॰जे॰ अब्दुल कलाम अपने समय के सबसे महान ज्ञानियों में से एक थे। वह बांग्लादेश में भी बहुत सम्मानित थे। उनकी विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत की वृद्धि करने के लिए अमूल्य योगदान के लिए वे सभी के द्वारा हमेशा याद किये जायेंगे। वे दक्षिण एशिया की युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणा का स्रोत थे जो उनके सपनों को पंख देते थे। '' बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी की प्रमुख खालिदा जिया ने कहा , '' एक परमाणु वैज्ञानिक के रूप में , उन्होंने लोगों के कल्याण में स्वयं को समर्पित किया। '' अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी , ने कलाम को , `` लाखों लोगों के लिए एक प्रेरणादायक शख्सियत बताया '' ये नोट करते हुए `` हमे अपने जीवन से बहुत कुछ सीखना है। '' नेपाली प्रधानमंत्री सुशील कोइराला ने भारत के लिए कलाम के वैज्ञानिक योगदानों को याद किया। `` नेपाल ने एक अच्छा दोस्त खो दिया है और मैंने एक सम्मानित और आदर्श व्यक्तित्व को खो दिया है। '' पाकिस्तान के राष्ट्रपति , ममनून हुसैन और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने पूर्व राष्ट्रपति के निधन पर उनके प्रति दु : ख , शोक व संवेदना व्यक्त की।

इंडोनेशियाई राष्ट्रपति सुसीलो बम्बनग युधोयोनो , मलेशिया के प्रधानमंत्री नजीब रजाक , सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सियन लूंग , संयुक्त अरब अमीरात के राष्ट्रपति शेख खलीफा बिन जायद अल नहयान सहित अन्य अंतरराष्ट्रीय नेताओं , , और संयुक्त अरब अमीरात के प्रधानमंत्री और दुबई के शासक ने भी कलाम को श्रद्धांजलि अर्पित की। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने भारत सरकार , भारत के सभी लोगों के लिए और मृतक नेता ले प्रियजनों के लिए अपनी गंभीर संवेदना व्यक्त की और अपनी सहानुभूति और समर्थन से अवगत कराते हुए कहा , `` कलाम को हमारे देशों के बीच लगातार मैत्रीपूर्ण संबंधों के एक प्रतिपादक के रूप में याद किया जाएगा , उन्होंने भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा को सुनिश्चित करने में सामाजिक , आर्थिक , वैज्ञानिक और तकनीकी प्रगति के लिए व्यक्तिगत योगदान दिया। उन्होंने पारस्परिक रूप से लाभप्रद रूसी-भारतीय सहयोग जोड़ने के लिए बहुत कुछ किया। ''

संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा , '' अमेरिकी लोगों की ओर से , मैं पूर्व भारतीय राष्ट्रपति ए॰पी॰जे॰ अब्दुल कलाम के निधन पर भारत के लोगों के लिए अपनी गहरी संवेदना का विस्तार करना चाहता हूँ। एक वैज्ञानिक और राजनेता , कलाम ने अपनी विनम्रता से घर में और विदेशों में सम्मान कमाया और भारत के सबसे महान नेताओं में से एक बने। भारत-अमेरिका के मजबूत संबंधों के लिए , डा कलाम ने सदा वकालत की। 1962 में संयुक्त राज्य अमेरिका की यात्रा के दौरान नासा के साथ अंतरिक्ष सहयोग को गहरा करने के लिए काम किया। भारत के 11 वें राष्ट्रपति के रूप में इनके कार्यकाल के दौरान अमेरिका-भारत संबंधों में अभूतपूर्व वृद्धि देखी गई। उपयुक्त रूप से नामित `` पीपुल्स प्रेसिडेंट '' ( जनता के राष्ट्रपति ) ने सार्वजनिक सेवा , विनम्रता और समर्पण से दुनिया भर के लाखों भारतीयों और प्रशंसकों को एक प्रेरणा प्रदान की। ''

व्यक्तिगत जीवन

कलाम अपने व्यक्तिगत जीवन में पूरी तरह अनुशासन का पालन करने वालों में से थे। ऐसा कहा जाता है कि वे क़ुरान और भगवद् गीता दोनों का अध्ययन करते थे। कलाम ने कई स्थानों पर उल्लेख किया है कि वे तिरुक्कुरल का भी अनुसरण करते हैं , उनके भाषणों में कम से कम एक कुरल का उल्लेख अवश्य रहता था। राजनीतिक स्तर पर कलाम की चाहत थी कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत की भूमिका विस्तार हो और भारत ज्यादा से ज्याद महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाये। भारत को महाशक्ति बनने की दिशा में कदम बढाते देखना उनकी दिली चाहत थी। उन्होंने कई प्रेरणास्पद पुस्तकों की भी रचना की थी और वे तकनीक को भारत के जनसाधारण तक पहुँचाने की हमेशा वक़ालत करते रहे थी। बच्चों और युवाओं के बीच डाक्टर क़लाम अत्यधिक लोकप्रिय थे। वह भारतीय अन्तरिक्ष विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान के कुलपति भी थे। वे सदाय स्मित करते थे चाहे वो दफतर का नौकर ही क्युंना हो। वे जीवनभर शाकाहारी रहे।

See other essay on:

essay on mexico war on drugs, essay on free music downloading, essay on benefits of information technology, essay on shah waliullah , essay on my love story, essay on mass media and its role in present society, essay on racism in the world, essay on killings andre dubus, essay on failures lead to success, essay on the bhagavad gita , essay on liberalisation of prostitution, essay on social networking sites are hampering the youth, essay on child labor during industrial revolution, essay on crosscultural conflict , essay on the treatment of slaves, essay on discipline in student life, essay on friends forever , essay on business promotion , essay on scientists and their inventions, essay on left turn in latin american politics, essay on ipl cricket games, essay on cyber bullying , essay on sanchar ke sadhan , essay on racism in sports, essay on child observation , essay on french and american revolution wars, essay on american scenery thomas cole summary , essay on censorship concepts , essay on autobiography of a haunted house, essay on why videogames are bad, essay on world trade organisation, essay on the nuremberg trials , essay on twelfth night theme love , essay on pollution with types, essay on driving age 16, essay on lucidity , essay on punctuality for kids, essay on my favourite game chess, essay on feminist theory , essay on the battle of chancellorsville , essay on modern fashion trends, essay on kant perpetual peace, essay on a visit to a circus show, essay on fences troy , essay on international trade , essay on advantages and disadvantages of using internet, essay on the warren commission , essay on air pollution in sanskrit language, essay on karyotypes , essay on how to save electricity , essay on nostra aetate , essay on best friend for class 2, essay on mayan art , essay on criticsm , essay on improving family functioning, essay on helping the environment , essay on the butter battle book, essay on mother teresa , essay on zakat , essay on editha